अंशिका की कहानी : भाग-1

अवधि : 
00 hours 07 mins

कक्षा में जब कोई एक बच्‍चा ऐसा होता है, जो औरों से अलग हो। खासकर तब जब वह शारीरिक रूप से भी औरों से कुछ अलग हो। ऐसे में शिक्षक के लिए एक चुनौती होती है कि वह उसे अन्‍य बच्‍चों के साथ लेकर कैसे चले।

अ‍ंशिका अज़ीम प्रेमजी स्‍कूल, उत्‍तरकाशी की कक्षा 3 की एक ऐसी ही छात्रा है। उसके साथ उसके शिक्षकों तथा सहपाठियों के क्‍या अनुभव रहे हैं, उन्‍होंने उससे क्‍या सीखा है और उसे क्‍या सिखाया है, यह जानने योग्‍य है। आप भी यह कहानी देखें।

17559 registered users
6680 resources