शिक्षक विकास

हिन्दी

प्रश्न : कृपया हमें अपनी शैक्षिक/बौद्धिक यात्रा के बारे में बताएँ। आज आप अपने आप को एक शिक्षाशास्त्री - यानी शिक्षाशास्त्र के एक प्राध्यापक जो शिक्षकों और शोधकर्ताओं की एक नई पीढ़ी को विकसित कर रहा है - के रूप में किस प्रकार देखते हैं?

गिजु भाई बधेका भारत के प्रथम प्रयोगशील शिक्षक कहे जाते हैं। उनका जन्‍म 15 नवम्‍बर 1885 में हुआ था। उनकी कर्मभूमि गुजरात के भावनगर के करीब रही है। 1939 में जून में उनका निधन हो गया था।

बच्‍चों के साथ विद्यालय में उन्‍हाेंने जो काम किया, वह उनके द्वारा लिखी गई कई सारी किताबों के रूप में सामने अाया है। उनकी सबसे प्रसिद्ध किताब है 'दिवास्‍वप्‍न' । इस किताब में एक प्रयोगशील शिक्षक समाज और व्‍यवस्‍था से किस तरह संघर्ष करता है, उसका विवरण दर्ज है।

विद्यालय में हर वर्ग, हर संप्रदाय या हर समुदाय के विद्यार्थियों को बिना किसी भेदभाव के प्रवेश मिलना चाहिए। यह उनका मौलिक अधिकार है। लेकिन इस अधिकार का पालन हो इसकी जिम्‍मेदारी निश्चित ही स्‍कूल नेतृत्‍व की बनती है। यह वीडियो इसी बात को रेखांकित करता है।

भाषा संवर्धन में बालसाहित्य का बेहद महत्व है। अच्छे बालसाहित्य का अध्ययन बच्चों को साहित्य से संवाद करने के अवसर प्रदान करता है और पढ़ी जा रही कहानी, कविता आदि पर अपनी राय बनाने के अवसर देता है। इससे बच्चों के भाषिक और संज्ञानात्मक कौशल का विकास होता है, साथ ही बालसाहित्य बच्चों की भावनात्मक बुद्धिमत्ता के विकास के भी अवसर प्रदान करता है।

'तारे जमीं पर' और 'थ्री इडियट' जैसी शिक्षा पर केन्द्रित फिल्‍में बनाने वाले सिने कलाकार आमिर खान शिक्षा के बारे में क्‍या कहते हैं, वह भी सुनने और गुनने लायक है।

शिक्षा पर विगत तीन-चार दशकों से चल रही शैक्षिक बहस में उत्‍पादक काम और उससे शिक्षा के जुड़ाव के मुद्दे ने खासी जगह हासिल की है। लेकिन इस बहस का मतलब क्‍या है ? इस बात को जाने-माने शिक्षाविद् अनिल सद्गोपाल ने अपने और तमाम अन्‍य संस्‍थाओं के काम के उदाहरणों के जरिए बहुत सरल शब्‍दों में इस साक्षात्‍कार में व्‍यक्‍त किया है।

शिक्षा पर विगत तीन-चार दशकों से चल रही शैक्षिक बहस में उत्‍पादक काम और उससे शिक्षा के जुड़ाव के मुद्दे ने खासी जगह हासिल की है। लेकिन इस बहस का मतलब क्‍या है ? इस बात को जाने-माने शिक्षाविद् अनिल सद्गोपाल ने अपने और तमाम अन्‍य संस्‍थाओं के काम के उदाहरणों के जरिए बहुत सरल शब्‍दों में इस साक्षात्‍कार में व्‍यक्‍त किया है।

पृष्ठ

13913 registered users
5837 resources