रामेश्‍वरी लिंगवाल

उत्तराखण्ड के राजकीय प्राथमिक विद्यालय नवीन ज्ञानसू उत्तरकाशी की रामेश्वरी लिंगवाल का जुझारूपन देखते ही बनता है। जैसे ही उन्हें किसी बच्चे के बारे में पता चलता है की वह स्कूल न आकर कूड़ा बीन रहा है या भीख माँग रहा है, वे सुबह और शाम नहीं देखतीं बस निकल पड़ती हैं। प्रशासन से उनकी रिहाइश का इंतजाम करवाना हो या उन्हें नहलाना, खिलाना और उन्हें कपड़े पहनाना वे सब करती है...

हिन्दी
19188 registered users
7451 resources