आकाश सारस्‍वत

विद्यालयों में बाल मैत्रीपूर्ण वातावरण का निर्माण तथा आनंद के साथ सीखने में दीवार पत्रिका की भूमिका अत्यधिक महत्वपूर्ण होती जा रही है तथा खेल-खेल में शिक्षा की भावना को भी बल मिल रहा है। बहुभाषायी ज्ञान समृद्ध हो रहा है। बच्चों की सृजनात्मक क्षमता विकास व प्रतिभा प्रदर्शन में यह एक महत्वपूर्ण उपकरण बनती जा रही है। विद्यालयों में पठन-पाठन का बड़ा ही मनमोहक वातावरण भी निर्मित होने लगा है। न केवल विद्यार्थियों में अपितु अध्यापकों में भी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का भाव उत्पन्न हो रहा है। दीवार पत्रिका अभियान से अभिभावकों व समुदाय को भी जोड़ा जा रहा है जिससे वि़द्यालय व समुदाय की दूरी भी कम हो रही है तथा संवाद का बेहतर वातावरण बन रहा है। साथ ही दीवार पत्रिका को पाठ्यक्रम से कैसे जोड़ा जाए, इस दिशा में अनेक कर्मठ अध्यापक काम कर रहे हैं।

हिन्दी
19173 registered users
7437 resources