अभिभावक

 

'खोजें और जानें' के इस अंक में है :

विमर्श

साझी समझ, साझे प्रयास * वंदना सिंह

बच्‍चे की शिक्षा और पालक * केवलानंद कांडपाल

सरकार की दृष्टि में एक अनपढ़-अनगढ़ बुढ़िया। पर इन अनपढ़-अनगढ़ देवी ने जो सिखाया है वह निसन्‍देह मुझे संसार के बड़े से बड़े विश्विद्यालय मिलकर नहीं समझा सकते।

हिन्दी

जमीलउद्दीन शेख

विद्यालय में विद्यार्थियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए अध्‍यापक को तरह तरह के प्रयास करने पड़ते हैं। उसे यह भी देखना होता है कि विद्यार्थी के घर की स्थिति कैसी है, क्‍या समस्‍याएँ हैं, अगर विद्यार्थी विद्यालय नहीं आ रहा है तो उसका कारण क्‍या है। अध्‍यापक जमीलउद्दीन शेख अपने ऐसे ही कुछ उदाहरणों का जिक्र यहाँ कर रहे हैं।

हमारे देश में शिक्षा के क्षेत्र में कई जगह प्रेरणादायी काम हो रहे हैं । इनमें से बहुत से ऐसे हैं जो हमारे सामने नहीं आ पाते। ऐसा ही उल्‍लेखनीय काम हरियाणा के पानीपत जिले के समालखा ब्लॉक में होता रहा है। यहाँ स्कूली शिक्षा बीच में ही छोड़ गए या पूर्ण रूप से उससे वंचित बच्चों के लिए अनौपचारिक शिक्षा की एक परियोजना ‘जीवनशाला’ के नाम से 1997 में प्रारम्भ की गई थी। इसमें पानीपत के साक्षरता अभियान

उमेश चौहान

अगर आप एक अभिभावक हैं और क्या अपने बच्चे का दाखिला पूर्व प्राथमिक, प्राथमिक, माध्यमिक या हाईस्कूल में कराने जा रहे हैं तो कुछ महत्वपूर्ण बातों का अवश्‍य ध्यान रखें। और अगर आप शिक्षक  हैं और विद्यालय में दाखिले के काम से जुड़े हैं तो दाखिला करते समय ये बातें आपको भी ध्यान में रखनी चाहिए।

हमारे देश में शिक्षा के क्षेत्र में कई जगह प्रेरणादायी काम हो रहे हैं । इनमें से बहुत से ऐसे हैं जो हमारे सामने नहीं आ पाते। ऐसा ही उल्‍लेखनीय काम हरियाणा के पानीपत जिले के समालखा ब्लॉक में होता रहा है। यहाँ स्कूली शिक्षा बीच में ही छोड़ गए या पूर्ण रूप से उससे वंचित बच्चों के लिए अनौपचारिक शिक्षा की एक परियोजना ‘जीवनशाला’ के नाम से 1997 में प्रारम्भ की गई थी। इसमें पानीपत के साक्षरता अभियान

आमतौर पर विद्यालयों में बाल मेले आयोजित होते हैं, पर उनका रूप परम्‍परागत ही होता है। पिछले कुछ समय में उत्‍तराखण्‍ड में इसे एक नया आयाम देने की कोशिश की गई है। यह कोशिश अज़ीम प्रेमजी फाउण्‍डेशन ने लर्निंग गारण्‍टी कार्यक्रम के तहत उत्‍तराखण्‍ड के सर्व शिक्षा अभियान के साथ मिलकर की है।

यह बाल मेला इस मायने में अलग है कि इसमें न केवल बच्‍चों को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलता है बल्कि साथ ही वे यह भी प्रदर्शित करते हैं कि वे अपेक्षाओं के अतिरिक्‍त भी बहुत कुछ कर सकते हैं।

18929 registered users
7393 resources