विचार और अनुभव

सीखने के प्रतिफल(Learning Outcomes)

By Madhav Patel | दिसम्बर 27, 2018

विद्यालयों में अध्यनरत छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर कई नए प्रयास किये जाते है इन सबका उद्देश्य विद्यालयी छात्रों में शैक्षिक गुणवत्ता का विकास और अच्छी उपलब्धि स्तर को हासिल करना होता है जिससे छात्रों के समग्र मूल्यांकन के माध्यम से विकास की एक निश्चित योजना बनाकर उनका उन्नयन किया जा सके किन्तु अवलोकन के द्वारा अधिकांशतः सोच के उलट तस्वीर देखने को मिलती है प्रायः ये देखने मे आता है कि शिक्षकों को जो प्रशिक्षण के दौरान बताया व सिखाया जाता है उसका वह 25% भी अपने विद्यालयों में सांझा नही करते हैं तथा परंपरागत शिक्षण शैली अपनाते है उन्हे

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ,भारत शासन द्वारा विभिन्‍न संस्‍थाओं के साथ मिलकर सेवापूर्व आरम्भिक अध्‍यापक शिक्षा विषयक मुद्दों पर एक अन्‍तरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन का आयोजन 2 से 4 फरवरी, 2010 तक नई दिल्‍ली में किया गया था। उसकी विस्‍तृत कार्यवाही की रपट यहाँ उपलब्‍ध है।

प्रारम्भिक शिक्षकों के सेवाकालीन विकास के मुद्दों पर अन्‍तरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन का आयोजन अक्‍टूबर 2010 में भुवनेश्‍वर, उड़ीसा में किया गया था। सम्‍मेलन की विस्‍तृत कार्यवाही का लेखा-जोखा इस रपट में दिया गया है।

हिन्दी

 गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पाय,

बलिहारी गुरु आपने, गोविन्द दियो बताये।।।

रेखा चमोली की हाल ही में प्रकाशित पुस्तक 'मेरी स्कूल डायरी'  देखी। पहली नजर में पुस्तक ने अपनी साज-सज्जा तथा मुद्रण की गुणवत्ता से प्रभावित किया। डायरी में वर्ष 2011 से 2014 के रेखा चमोली के अध्यापकीय अनुभव संग्रहित हैं।

डॉ.विनोद रायना शिक्षा में अपने योगदान के अलावा इस बात के लिए भी जाने जाते हैं कि उन्‍होंने 'शिक्षा का अधिकार अधिनियम' को पारित करवाने के लिए एक लम्‍बी लड़ाई लड़ी। उसी अधिनियम के बारे में कुछ सवालों के जवाब वे इस वीडियो में दे रहे हैं। विनोद रायना अब इस दुनिया में नहीं हैं। लेकिन शिक्षा एवँ सामाजिक क्षेत्र में उनके उल्‍लेखनीय योगदान को हम हमेशा याद रखेंगे।

अज़ीम प्रेमजी विश्‍वविद्यालय अँग्रेजी में तीन पत्रिकाएँ प्रकाशित करता है। अब शिक्षा के लिए हिन्‍दी में भी एक पत्रिका ‘पाठशाला - भीतर और बाहर’ का प्रकाशन भी आरम्‍भ किया है। पत्रिका का प्रवेशांक आ गया है। इसमें विमर्श,परिप्रेक्ष्‍य,शिक्षण शास्‍त्र, कक्षा अनुभव,साक्षात्‍कार,पुस्‍तक चर्चा,शोध अध्‍ययन तथा संवाद स्‍तम्‍भों के अन्‍तर्गत उपयोगी शैक्षिक सामग्री है। पत्रिका की प्रति के लिए पत्रिका में दिए गए पते पर सम्‍पर्क करें। यहाँ पत्रिका की पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

 

पृष्ठ

16133 registered users
6460 resources