शैक्षिक दख़ल : अंक 6, जुलाई 2015 में

Description: 
शैक्षिक दख़ल : अंक 6 ( जुलाई 2015) में प्रारम्‍भ * भयमुक्‍त वातावरण : विचार और वास्‍तविकता * महेश चन्‍द्र पुनेठा। आलेख * स्‍कूली बच्‍चों में भय, तनाव एवं दुश्चिंता के प्रभाव * डॉ. केवलानंद कांडपाल । शिक्षा और भय * डॉ.शशांक शुक्‍ला । गौर तलब * गंभीर खतरे में स्‍कूल * रोहित धनकर। परिचर्चा * कैसा है भय और शिक्षा का रिश्‍ता ।कहानी * जाग तुझको दूर जाना * बिपिन कुमार शर्मा। बचपन * न इधर के रहे, न उधर के * जावेद उस्‍मानी । अनुभव * बिन पुस्‍तक जीवन ऐसा, बिन खिड़की घर जैसा * आकाश सारस्‍वत । भाषा की कक्षा में अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता एवं अवसर * प्रमोद दीक्षित ‘मलय’ । स्‍कूल में नाटक * रेखा चमोली। हर बच्‍चे में मुझे अपना बच्‍चा दिखता है * रामकिशोर पाण्‍डेय । परिसंवाद * सृजनात्‍मक लेखन के विकास में कार्यशालाओं की भूमिका * राजेश उत्‍साही । नजरिया * शिक्षक के लिए आवश्‍यक है बच्‍चों को समझना * रमेश चन्‍द्र जोशी। विचार * अपने सपने को जिंदा रखना होगा * आशुतोष भाकुनी ।अध्‍ययन * बालमन की पड़ताल * राहुल देव। पेंरेटिंग * पापा, वे ऐसे लहरा के क्‍यों चलते हैं ? * स्‍वतंत्र मिश्र ।संवाद * भय के बारे में बच्‍चे क्‍या सोचते हैं ? * बालसंवाद। अखबारों से * डॉ. दिनेश चन्‍द्र जोशी ।मिसाल * रमेश धारू : एक चलते-फिरते गतिविधि केन्‍द्र * अर्जुन सिंह। इस बार की पुस्‍तक * आज तुमने स्‍कूल में क्‍या पूछा? *राजीव जोशी। और अंत में * हम किस ओर जाना चाहते हैं ? * दिनेश कर्नाटक

अंक देखने के लिए शैक्षिक दख़ल : अंक 6 लिंक पर जाऍं

19210 registered users
7451 resources