टीचिंग लर्निंग मटेरियल

By Madhav Patel | मई 20, 2020

*टीचिंग लर्निंग मटेरियल*
वर्तमान में शिक्षण प्रक्रिया को प्रभावी बनाने के लिए पेडोगाजी की परिणाम में परिवर्तित करने के लिए एक बात पर बहुत जोर दिया जा रहा है वो है सहायक शिक्षण सामग्री अर्थात टीएलएम विभिन्न शिक्षक प्रशिक्षणों में भी टीएलएम के निर्माण व कक्षा में इसके उपयोग पर काफी चर्चा की जाती है। शिक्षकों से यह अपेक्षा की जाती है कि वे ज़्यादा-से-ज़्यादा रचनात्मक होकर टीएलएम बनाएँ और उन्हें साझा करें। चूंकि इसकी मूल अवधारणा स्पष्ट न होने से देखा गया है कि शिक्षकों द्वारा खूब चमकीले व सजावटी और कीमती टीएलएम तैयार किए जाते हैं। हालांकि टीएलएम एक अवसर होता है शिक्षक को अपनी सृजनात्मकता को दर्शाने का और पाठ्यक्रम के लिए उपयोगी टीएलएम बनाने पर शिक्षकों को प्रोत्साहित भी किया जाता है।ये सब करने के प्रमुख उद्देश्य ये है कि शिक्षक वास्तव में इसकी अवधारणा को समझे कि कुछ भी चीज बना देना टीएलएम नही है एक स्थान की सामग्री दूसरे स्थान के लिए उपयोगी हो ये भी आवश्यक नही है।साथ ही हर शिक्षक की पढ़ाने की पेडोगाजी अलग होती है तो उसको पाठ वस्तु विस्तारित करने के लिए अलग सामग्री की आवश्यकता होती है तो ये सामग्री एक सी न होकर शिक्षक अनुसार होती हैं।अतएव बाजार की उपलब्ध टीएलएम को सबके लिए उचित नही माना जा सकता।टीएलएम का नियम है कि ये या तो लोकस्ट हो या फिर नो कास्ट हो।बाजार की रेडीमेड सामग्री सभी को उपयुक्त नही हो सकती इसलिए अच्छी सामग्री बनाने वाले शिक्षकों का प्रोत्साहन आवश्यक है।यहाँ अच्छी सामग्री से आशय विद्यार्थियों के लिए उपयोगी होने से है न कि मंहगी और सजावटी से।वास्तव में टीएलएम एक प्रकार से शिक्षक की सोच और कौशल को प्रदर्शित करती है कि वह उस पाठ्यांश को कितने प्रभावी तरीके से प्रस्तुत कर सकता है।निश्चित ही टीएलएम एक ऐसी सामग्री है जो विद्यार्थियों को किसी विषयवस्तु की अवधारणा को स्पष्ट करने में मदद करती है। जब शिक्षक को ये पता चल जाएगा कि किस तरह के अध्यापन का ज्यादा प्रभाव पड़ रहा है तब ही वो यथोचित टीचिंग लर्निंग मटेरियल का निर्माण कर पाने में सक्षम होगा और कक्षा में उसका उपयोग कर सकेगा।यदि शिक्षक केवल के याद करने को सीखना मान लेंगे तो वो टीएलएम को भी केवल जानकारी प्रेषण की सामग्री ही मानेंगे और इसका वास्तविक उपयोग भी कक्षा में नही कर पाएंगे।एक ही विषयवस्तु को जब अलग अलग शिक्षक व्यक्त करते है तो उनकी पेडोगाजी के साथ साथ सहायक शिक्षण सामग्री का बहुत बड़ा योगदान होता है।अतः अच्छे शिक्षण और अच्छे शिक्षक के लिए उपयुक्त टीएलएम सामग्री का चयन अत्यंत आवश्यक है।
माधव पटेल

Madhav Patel का छायाचित्र

विचार आमंत्रित

18624 registered users
7274 resources