कक्षा प्रबंधन

By rajeshgurjar | फ़रवरी 3, 2017

सेल्फ लर्निंग के लिए कक्षा का फेसिलिटेशन कैसे किया जाये | हमारे विद्यार्थियों में रटने की प्रवृत्ति को रोककर वे खुद से चीजों को अपने अनुभव से जोड़कर सीखें | इसके लिए हमें कक्षा का फेसिलिटेशन कैसे करना चाहिए ? किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ? इसके क्या क्या सकारात्मक व नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं ?

editor_hi का छायाचित्र

चर्चा शुरू करने के लिए अच्‍छा रहेगा कि राजेश जी आप स्‍वयं जो तरीके अपनाते रहे हैं, उनके बारे में संक्षिप्‍त में बताएँ।
राजेश उत्‍साही

rajeshgurjar का छायाचित्र

सामान्यतः मैं अपनी कक्षा में विद्यार्थियों को स्तरानुसार समूह मैं बैठाकर पढ़ाता हूँ | जो भी पाठ/टॉपिक पढ़ाने वाला हूँ उससे सम्बंधित समस्त TLM कक्षा में उपलब्ध हो यह सुनिश्चित करता हूँ | पढ़ने के दौरान मेरा फोकस रहता है कि पाठ को विद्यार्थी खुद पढ़ें | पाठ के कठिन शब्दों के अर्थ विद्यार्थी आपस में चर्चा करके या लाइब्रेरी से खुद ढूंढे | अपने पूर्व अनुभवों से पाठ की समझ को जोड़ें | इसके लिए जहाँ विद्यार्थी चर्चा से भटकते हैं वहां उन्हें वापस विषय पर मोड़ने का काम करता हूँ | विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए किसी भी प्रश्न का सीधा जवाब नहीं देता हूँ | पहले मेरी कोशिश रहती है कि जवाब भी उन्ही में से कोई बताये या किताब या लाइब्रेरी से ढूंढकर कक्षा के विद्यार्थी ही सवाल का जवाब बताएं | अगर सवाल का जवाब ढूढने में उन्हें दिक्कत होती है तो वहां मैं विद्यार्थियों की मदद करता हूँ | एक भाषा कक्षा में मैं यह सुनिश्चित करता हूँ कि पाठ पढ़ाने के दौरान बच्चे बोलने पढ़ने व लिखने से सम्बंधित अभ्यास करें | इस पूरे प्रोसेस में कक्षा के कुछ बच्चे बराबर भागीदारी नहीं निभा पाते हैं यह मुख्य चुनौती मेरे सामने है | ये ऐसे बच्चे हैं जिन्हें अभी धाराप्रवाह पढने में दिक्कत है |

12568 registered users
5408 resources