समावेशी शिक्षा में कक्षा शिक्षण अधिगम प्रक्रिया

समाज का विकास उसमें निहित सम्पूर्ण मानवीय क्षमता का कुशलतापूर्वक उपभोग पर निर्भर करता है। समाज में सभी वर्ग के सहयोग के बिना पूर्ण विकास सम्भव नहीं हो सकता है। शिक्षा किसी समाज के चहुँमुखी विकास में सबसे महत्वपूर्ण कारक है। शिक्षा को व्यक्ति की दक्षता बढ़ाने का साधन ही नहीं माना जाता है बल्कि लोकतंत्र में सक्रिय भागीदारी निभाने और अपने सामाजिक जीवन-स्तर में सुधार के लिए भी शिक्षा आवश्यक है। भारत में शारीरिक रूप से चुनौती झेल रहे लोगों की संख्या अधिक है और इनके विकास के बिना देश का पूर्ण विकास संभव नहीं है। भारत की विशिष्ट शिक्षा आयामों में एक महत्वपूर्ण आयाम है- ‘‘समावेशित शिक्षा’’। इस शोध में बतलाया गया है कि समावेशी शिक्षा का दर्शन ’सभी के लिए शिक्षा’ के सिद्वान्त को आधार प्रदान करता है। प्रस्तुत शोध का उद्देश्य है कि समावेशी शिक्षा में कक्षा शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का संचालन किस प्रकार किया जाता है। शोध में प्रविधि के रूप में समालोचनात्मक विश्लेषणात्मक (क्रिटीकल एनालिसिस मेथड) विधि का प्रयोग किया गया है। समावेशी शिक्षा में अनेक तरह के विद्यार्थी होते हैं जैसे- यूनिसेफ, यूनेस्को एवं एन.सी.ई.आर.टी. के प्रतिवेदन में बतलाया गया है कि समावेशी शिक्षा मे दिव्यांग (शारीरिक, दृष्टिबाधित, श्रवणह्रास), सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर, भाषाई अल्पसंख्यक एवं विभिन्न परिवेश से आए हुए विद्यार्थियों का शिक्षण कार्य किया जाता है, जिससें शिक्षक को विशेष शिक्षण कला एवं दक्षता से युक्त होना पड़ता है साथ ही कक्षा में शिक्षक कों इन विद्यार्थियों को शिक्षण कार्य करते समय विभिन्न प्रकार की विशेष सामग्रीयो एवं साधनों की आवश्यकता पड़ती है। कक्षा में शिक्षक को शिक्षण में सहकारी शिक्षण, परियोजना शिक्षण, सहयोगात्मक शिक्षण विधि आदि का उपयोग विद्यार्थियों की विभिन्नता के अनुकूल किया जाए। समावेशी शिक्षा की कक्षा में शिक्षकों को विभिन्न चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। समावेशी शिक्षा में विद्यार्थियों के समावेशी विकास में शिक्षक की भूमिका का वर्णन किया गया है। निष्कर्षतः कहा जाएगा कि समावेशी शिक्षा ही वह जरिया है जिसके द्वारा वंचित समाज की शिक्षा के लक्ष्य को पूरा किया जा सकेगा।

मुख्य शब्दः शिक्षा, समावेशी शिक्षा, शिक्षक, शिक्षण, दिव्यांग, विद्यार्थी, कक्षा, समाज

17385 registered users
6659 resources